Competitive exam

The constitution of India part - 3

The constitution of India

The constitution of India
The constitution of India

आमुख में मौजूद शब्दो का अर्थघटन


सार्वभौम

ऐसा एक देश के जिस देश के निर्णय कोई बाहरी देश के द्वारा नही हो सकते।

समाजवाद

ऐसी व्यवस्था की जिसमे समाज के सारे लोगो के लिए कुछ ना कुछ व्यवस्था हो।

धर्मनिरपेक्ष

किसीभी एक धर्म का प्रभुत्व ना हो।

लोकतांत्रिक

लोग द्वारा लोगो के लिए लोगो का शासन।

गणतंत्र

ऐसी व्यवस्था के जहा पे प्रधान का पद वंश परंपरागत ना हो। और स्वतंत्रता, समानता, और बंधुता का आदर्श 1789 में फ्रांस की क्रांति मेसे लिए गए है।

विश्व के प्रमुख संविधान का प्रभाव


भारत के संविधान का मुख्य भाग भारत शासन अधिनियम 1935 मेसे लिए गए है और इसके अलावा बहोत सारे देश के संविधान मेसे भी लिए गए हैं।

1 भारत शासन अधिनियम - 1935

संघकि व्यवस्था, राज्यपाल का कार्य, प्रांत की कामगिरी, शक्ति और अधिकार, आपात कालीन व्यवाथा, जोगवाई

2 ब्रिटन

संसद और विधान सभा की प्रक्रिया, संसदीय विशेष अधिकार, एकल नागरिकता, कायदा बनानेकी रीत, राष्ट्रपति की स्थिति, आदर्श संविधान के रूप मे स्वीकार।

3 अमेरिका

राष्ट्रपति पर महा अभियान, उपराष्ट्रपति का पद, आमुख, मूलभूत अधिकार, सर्वोच्च अदालत की स्थापना और सत्ता, न्याय तंत्र की स्वतंत्रता।

4 रशिया

मूलभूत फर्ज, सामाजिक, आर्थिक, और राजनैतिक न्याय शब्दों को प्रस्ताव ना में शामिल किया गया।

5 ऑस्ट्रेलिया

आमुख की भाषा, संयुक्त यादि, संसद की संयुक्त बैठक, व्यापार और वाणिज्य की पूर्ण स्वतंत्रता।

6 आयरलैंड

राजनीति के मार्ग दर्शक सिद्धांत, राज्य सभा मे राष्ट्रपति के द्वारा चुने जाने वाले सभ्य, राष्ट्रपति की चुनाव प्रक्रिया

7 केनेडा

केंद्र के द्वारा राज्य में राज्यपाल की निमणुक, केंद्र और राज्य के स्तर पर शासन का विभाजन।

8 फ्रांस

प्रजासत्ताक राष्ट्र का खयाल, स्वतंत्रता, समानता और बंधुत्व का सिद्धांत।

9 दक्षिण अफ्रीका

संविधान मे सुधार करनेकी जोगवाई, राज्य सभा के सभ्य का चुनाव।

10 जर्मनी

कटोकटी - विषय जोगवाई, मूलभूत अधिकार मौकुफ रहने देना।

11 जापान

कायदे के द्वारा स्थापित करने की प्रक्रिया

महत्व की बंधारण समिति और उसके अध्यक्ष।
मुसदा, प्रारूप, ड्राफ्टिंग समिति - बाबा साहेब आंबेडकर
प्रारूप समीक्षा समिति - अल्लादी कृष्णा स्वामी आयंगर
संघ संविधान/बंधारण समिति - जवाहरलाल नेहरू
संघ शक्ति समिति - जवाहरलाल नेहरू
प्रांतीय बंधारण समिति - सरदार पटेल
मूलभूत अधिकार समिति - सरदार पटेल
संचालन समिति - डो राजेंद्र प्रसाद
ध्वज समिति - जे.बी कृपलानी

मुसदा समिति


यह समिति सबसे महत्व की समिति है। जिसका संविधान का मुसदा बनाया। रचना 29 अगस्त 1947।

मुसदा के सभ्य


बाबा साहेब आंबेडकर अध्यक्ष थे। एन. गोपालास्वामी अयंगर ने - क 370 का निर्माण किया था। डो बी. एल मित्तल ने अपनी स्वास्थ्य खराब होने पर राजीनामा दिया और उस पद पर एन. माधवराय आए। डो कनैयालाल मुनशी एक मात्र गुजराती सभ्य है। अल्लादी कृष्णा स्वामी अय्यर। सैयद मोहम्मद सादुल्ला। डी. पी खेतान 1948 में उनकी मृत्यु हुई इस लिए उनकी जगह पर टी. टी कृष्णामचारी आए।

आज़ाद भारत की प्रथम कैबिनेट - 1947


वडा प्रधान - जवाहरलाल नेहरू, गृह माहिती प्रसारण - सरदार वल्लभभाई पटेल, शिक्षण - मौलाना अब्दुल कलाम आजाद, रक्षा - सरदार बलदेवसिंह, रेलवे - जॉन मथाई, नाणा मंत्री - आर. के शणमुख शेट्टी, वानिज्य - सी. एच भाभा, खेती - राजेंद्र प्रसाद, कायदा - बाबासाहेब आंबेडकर, आरोग्य - राजकुमारी अमृत कौर, उद्योग - डो श्यामा प्रसाद मुखर्जी, संचार - रफी अहमद किडवाई।

संविधान में समाविष्ट परिशिष्ट


संविधान की शुरुआत में 8 परिशिष्ट थे। और अब के संविधान में 12 परिशिष्ट है।

1  राज्य 29 के केंद्रशासित प्रदेश 7

2 पेटा विभाग, राष्ट्रपति, गवर्नर, स्पीकर, न्यायाधीश का पगार और भथा

3 शपथ और सोगंधविधि के नमूने

4 राज्य सभा सीट को दिया गया

5 अनुसूचित जाति के विस्तार का वहीवट

6 आसाम, त्रिपुरा, मेघालय, और मिज़ोरम राज्य के आदि जाती विस्तार का वहीवट

7 सरकार की यादि 1 - संघ - 100 विषय, 2 - राज्य - 61 विषय, 3 - समवर्ती - 52 विषय

8 भाषाएँ - संविधान की शुरुआत में 14 भाषाएँ थी और अब संविधान में 22 भाषाएँ है। और अभी के संविधान में अंग्रेजी और राजस्थानी भाषा समाविष्ट नही है।

9 कुछ अधिनियम और विनिमय (ज़मीन सुधार की योजना)

समावेश - पहला संविधान सुधार - 1951

10 पक्षपल्टा विरोधी कायदा

समावेश - 52 वा संविधान सुधार - 1985

11 पंचायती राज की शक्ति अधिकार और ज़िम्मेदारी (29विषय)

समावेश - 73 व संविधान सुधार - 1992, 50% स्त्री अनामत

12 नगरपालिका की शक्ति अधिकार और ज़िम्मेदारी

समावेश - 74 वा संविधान का सुधार - 1992 (18 विषय)

संविधान के भाग


संविधान की शुरुआत में 22 भाग थे और अभी संविधान में 25 भाग है।

1 संघ और उसके कार्य - अनुच्छेद 1 - 4

2 नागरिकता - अनुच्छेद 5 - 11

3 मूलभूत अधिकार - अनुच्छेद 12 - 35

समानता - अनुच्छेद - 14 - 18

स्वतंत्रता - अनुच्छेद - 19 - 22

शोषण विरुद्ध - अनुच्छेद - 23 - 24

धार्मिक स्वतंत्रता - अनुच्छेद 25 - 28

सांस्कृतिक और शैक्षणिक - अनुच्छेद 29 - 30

बंधारण उपचार - अनुच्छेद 32

4 राजनीति के मार्गदर्शक सिद्धांत - अनुच्छेद - 36 - 51

4(अ) मूलभूत फर्ज अनुच्छेद - 51 (क)

5 राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति संघ समिति व्यवस्था - अनुच्छेद - 151

6 राज्य शासित व्यवस्था - अनुच्छेद - 152 - 237

7 पहले परिशिष्ट के भाग राज्य रद्द किया है - अनुच्छेद - 238

8 केंद्रशासित प्रदेश का वहीवट - अनुच्छेद - 239 - 242

9 पंचायत - अनुच्छेद - 243 (A) से 243 (o)

9 (अ) नगरपालिका - अनुच्छेद - 234 (P) से 243 (ZG)

9 (ब) सहकारी समिति- अनुच्छेद - 243 (ZH) से 243 2 (ZT)

10 अनुसूचित और आदिजाति विस्तार - अनुच्छेद - 244

11 केंद्र और राज्य के बीच मे संबंध - अनुच्छेद - 245 - 263

12 पैसे, मिलकत, करार और दवाई - अनुच्छेद - 264 - 300 (A)

13 भारत प्रदेश में व्यापार वाणिज्य और आंतर व्यवहार - अनुच्छेद - 301 - 307

14 संघ और राज्य की सेवाएं - अनुच्छेद - 308 - 323

15 चुनाव - अनुच्छेद - 324 - 329

16 कुछ वर्ग संबंधित जोगवाई - अनुच्छेद - 330 - 342

17 भाषा (हिंदी) - अनुच्छेद - 343 - 351

18 कटोकटी की जोगवाई - अनुच्छेद - 352 - 360

19 दूसरे मुद्दे - अनुच्छेद - 361 - 367

20 संविधान में सुधार - अनुच्छेद - 368

21 कामचलाऊ और बीच वाली जोगवाई - 369 - 392

22 संविधान की छोटी संज्ञा, अमल और क़ायदा रद्द करने के लिए अनुच्छेद - 393 - 395

About Mensutrapro

0 comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.