Games

Mobile Phone Game rise

Mobile Phone Game rise

Mobile Phone Game rise
Mobile Phone Game rise

Mobile Phone Game rise जबसे स्मार्ट फ़ोन का जनम हुआ है तबसे लोग PC और कंसोल को जैसे भूलते ही जा रहे है एक मोबाइल फ़ोन ने उन सब चिजोकी जगह लेली जिन्हें हम पुराने ज़मानेमे यूज़ करते थे.

जैसे की गाने सुनने के लिए Walkman और रेडिओ फोटो खिचनेके लिए कैमरा गेम्स ख्लेनेके लिए कंसोल जैसी चीज़े क्योकि अब सारे काम एक ही गैजेट से हो जाते है इस लिए हमारा मोबाइल फ़ोन गैजेट की दुनिया में सबसे बड़ा गैजेट साबित हुआ है और आज कल तो नए ज़मानेके एंड्राइड और ios यानिकी apple के iphone इतने ज्यादा पावरफुल हो गए है की इसे हम एक मिड रेंज PC से भी आसानीसे कम्पेर कर सकते है और कई फ़ोन जैसे की One+ जैसे ताकतवर फोंस तो इन मिड रेंज PC को बड़ी आसानीसे हराभी देंगे.

History of  Mobile Phone Games


तो जैसे की हम जानते है की पुराने ज़मानेमे जब हमारे पास वो नोकिया और मोटोरोला के ब्लैक एंड वाइट फोंस हुआ करते थे तब हम उसमे हमारी फेवरेट गेम्स खेला करते थे और वो थी स्नैक की गेम यानी साप वाली गेम उन दिनों गेम के नाम पे फ़ोन में सिर्फ एक दो गेम्स ही आती थी और फिर भी लोग उसे बोहोत पसंद करते थे उसके बाद नोकिया अपने फ़ोन और os की वजहसे मार्किट में छा गया और तब नोकिया की E सिरीज़ और केंडीबार डिजाईन के फ़ोन बोहोत ही बिकते थे क्योक उन दिनों उस फ़ोन में जावा की apps और games चलती थी जो Jar या Jad वर्शन में आती थी तब हम कुछ 2D टाइप की गेम्स खेला करते थे.

उनदिनोमे मोबाइल गेम्स उतनी ज्यादा प्रचलित नहीं थी क्योकि मोबाइल के हार्डवेयर उतने ज्यादा शक्ति शाकी नहीं थे और 2D टाइप्स की गेम ही उसमे चल पाती थी लेकिन फिर बादमे 23 September 2008 को Android os आया उन्दिनो जिसतरह से नोकिया और सैमसंग ने फोंस मार्किट में अपने पैर पसार के रखे थे तब लगता नहीं था की कोई और os भी इतना ज्यादा फेमस हो सकता है.

Android और IOS आनेके बाद ये दोनों इतने फेमस हुए की मोबाइल गेमिंग का भविष्य ही बदल गया अब सब फोंस में Android का ही उपयोग होने लगा. क्योकि Android बोहोत ही पावरफुल os था और इसमें customization के options काफी अच्छे थे उन दिनों एंड्राइड पे Angry Birds जैसे गेम्स खूब चली और तभी से मोबाइल गेमिंग एवोल्व होना स्टार्ट हुआ क्योकि जैसे जैसे फोंस के हार्डवेयर जया पावरफुल होने लगे वैसे वैसे एंड्राइड के न्यू वर्शन भी आने लगे और एंड्राइड ओस भी ज्यादा पावरफुल होने लगा अब ज़्यादातर लोगो के पास स्मार्ट फोंस आ चुके थे और ज्यादा तर लोग अपनी बिजी लाइफ स्टाइल की वजहसे अपने फ़ोन में ही गेमिंग करना पसंद करते थे क्योकि ये बोहोत ही आसन था और फ़ोन को कही भी के जाया जा सकता था.


अब सभी लोग स्मार्ट फोंस यूज़ करते थे और उनमे गेम्स भी खेलते थे तो गेम्स डेवलपर कंपनी ने फोंस के लिए गेम्स बनाना स्टार्ट करदिया फिर बडिसे बड़ी गेम्स बनने लगी और गेम्स के ग्राफ़िक्स भी इम्प्रूव होने लगे और अब एंड्राइड फोंस ने 1 MB से लेके 2 GB तक की साइज़ के गेम्स बनने लगे क्योकि अब फोंस बोहोत ही पावरफुल हो गए थे और वो इन भारी भरख़म गेम्स को बोहोत ही आसानी से चला लेते थे.

और अभी के डिवाइस इतने ज्यादा पावरफुल है की वो एक मिड रेंज pc को भी हरा दे क्योकि अभी के फोंस में 8 से लेके १० GB तक की ram आने लग गई है और प्रोसेसर भी बोहोत ही ज्यादा पावरफुल हो गए है. यही मानलीजिये की आपके हाथ में एक छोटा PC हो.

अब ये फोंस इतने ज्यादा पावरफुल है की इसमें PUBG और fortnite जैसी गेम्स आरामसे चलती है. और 2018 में PUBG mobile आया तो इसने मोइबले फ़ोन गेमिंग को एक नया आयाम दे दिया और मोबाइल फ़ोन गेमिंग इतनी तेजीसे ग्रो हो रही है की आने वाले कुछ सालो में शायद मोबाइल में ही आप PC और कंसोल की साड़ी गेम्स खेल पाओगे और तब कोई लोग PC और कंसोल पे गेम्स नहीं खेलेंगे क्योकि उनको उनके मोबाइल फ़ोन पे ही वो हाई ग्राफ़िक्स वाली गेम्स खेलनेको मिल जाती है.

Why Mobile Gaming Is On The Rise


अभी मोबाइल गेमिंग का मार्किट बोहोत ही बड़ा हो चूका है और ज़्यादातर गेम्स डेवलपर अब मोबाइल गेम्स बनाना ही पसंद करते है क्योकि आगे मोबाइल गेमिंग का भविष्य उज्वल है. क्योकि आज कल लोगो की लाइफ इतनी ज्यादा बिजी हो गई है की उनके पास घरपे PC या कंसोल में गेम खेलनेका टाइम नहीं होता तो वो ट्रेन और बस के सफ़र में ही मोबाइल में गेम्स खेल लेते है और ये बोहोत comfortable भी है क्योकि मोबाइल इतना छोटा है की ये हमारे पॉकेट में आजाता है और उसे हम हर जगह पाने साथ ले जाते है और वाही पे PC या कंसोल के साथ ऐसा नहीं ही उसे हम मोबाइल की तरह कही भी नहीं लेजा सजते और हरवक्त हमारे साथ भी नहीं होता. तो यही वजह है की लोगोको मोबाइल पे ही गेम्स खेलना ज्यादा पसंद है.

और अभी के टाइम पे मोबाइल फोंस इतने ज्यादा पावरफुल है की उसमे PC की कुछ गेम्स को पोर्ट करके एंड्राइड के लिए भी लांच कर दिया है जैसे की Gta sanandreas Ark survival जैसी बोहोत सी गेम्स और अभी क्लाउड गेमिंग की भी शुरुआत हो जाएगी जो की अभी हालहीमे टेस्टिंग phase में है क्लाउड गेमिंग का मतलब हम ऑनलाइन एप्लीकेशन की मदद से PC और कंसोल के गेम्स खेल सकते है बस इसमें मंथली सब्सक्रिप्शन होता है. यानी जब भविष्यमे क्लाउड गेमिंग भी अच्छी तरह से डेवेलोप हो जएगी तब हम PC की और कंसोल की सारी गेम्स हमारे फ़ोन में ही खेल पाएँगे अब जब कोई भी इंसान अपने मोबाइल पे ही PC और कंसोल की गेम्स खेल सकता है तो उसे और क्या चाहिए. इन्ही सब करनोसे मोबाइल गेम्स डेवेलोप होरही है और राइज भी हो रही है.

तो दोस्तों आपको हमारा ये आर्टिकल कैसा लगा कमेंट बॉक्स में कमेंट करके हमें ज़रूर बताए.

About Mensutrapro

0 comments:

Post a Comment

Powered by Blogger.